डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

जरा देखो
अंजना वर्मा


जरा टोहकर देखो

कि कहाँ है हवा

कहाँ है पानी

और कहाँ है स्त्री ?

जहाँ भी ये तीन चीजें हैं

वहाँ जिंदगी है


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अंजना वर्मा की रचनाएँ