डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

क्यूमियन सीबिल
आल्दा मेरीनी

अनुवाद - सरिता शर्मा


मैंने कलियों को
कोमलता के शिखर पर मुरझाते देखा
कदाचित इसलिए कि
अपने खुद के, जीवन के रुदन में,
देर तक आवाज में अस्पष्ट
संदेश बेमानी थे
और होंठ सहानुभूति जगा रहे थे;
मैंने खुद से रिक्त, आँख की पुतली को ध्यान से देखा,
उन्माद में आकृतियाँ उकेरता,
शक्तिहीन, काँपता चुंबक।
इस तरह, अंतर्ज्ञान के अमोघ आलिंगन में
पहले से फैले हुए, आकार के ऊपर,
धीमा अंतिम अंतराल ढह जाता है,
जोखिम को मौत का जहर देकर।


End Text   End Text    End Text