डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

और यह ज्यादा सरल हो जाता
आल्दा मेरीनी

अनुवाद - सरिता शर्मा


और यह मेरे लिए ज्यादा सरल हो जाता
तुम्हारे पास सबसे अँधेरी सीढ़ी से नीचे उतरना,
उन इच्छाओं में से एक जो मुझ पर धावा बोलती है
रात में बंध्या भेड़िये की तरह।
जानती हूँ तुम मेरे फल तोड़ोगे
क्षमा के प्रज्ञ हाथों से...
और यह भी जानती हूँ तुम मुझे ऐसा प्रेम करोगे
जो पवित्र, अनंत, उदासी भरा है...
जहाँ तक तुम्हारे लिए मेरे रोने की बात है,
मैंने इसे दिन-ब-दिन धीरे-धीरे निखार लिया है
जैसा कि पूरी रोशनी करती है
और मैंने इसे चुपचाप अपनी आँखों के पास लौटा दिया है
जो अगर मैं तुम्हें देखूँ, तो सितारों से चमक उठती है।


End Text   End Text    End Text