डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

मुन्नी चलती डगमग-डगमग
शादाब आलम


नन्हें-नन्हें कदम बढ़ाकर
मुन्नी चलती डगमग-डगमग।
हँसती है तो घर, खुशियों से
करने लगता जगमग जगमग।

मम्मी की आवाज सुने तो
झटपट उनकी ओर लपकती
पापा से बातें करती तो
कम से कम सौ बार अटकती।

भैया जब टॉफी दिखलाता
तो खुश होकर चहक पड़े वह
गुस्सा होने पर, टपकाने
लगती आँसू बड़े-बड़े वह।

रोना-हँसना, शोर मचाना
नखरे करना उसका काम
दिनभर गिरती-उठती रहती
थकने का ना लेती नाम।

मम्मी-पापा, भैया सबकी
घर में बड़ी दुलारी मुन्नी
अगर रूठती, गाल फुलाती
लगे बहुत ही प्यारी मुन्नी।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शादाब आलम की रचनाएँ