डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अजनबी
प्रांजल धर


तो क्या समझूँ, क्या मानूँ
क्या न समझूँ, क्या न मानूँ
क्या यह
कि वह ‘जंगली’ आदमी
जो रात में ओढ़ा गया था
मुझे चादर, मेरे पाँव तक;
वह क्रेता था
मेरी भावनाओं का
सहानुभूतियों का
या विक्रेता था
अपने इरादों का, चालों का
घनचक्कर जालों का
या कि कोई दुश्मन था
     पिछले पुराने सालों का?
 
किसी अजनबी की सिर्फ एक
छोटी-सी सहायता
एक ही साथ
कितने बड़े-बड़े सवाल
     खड़े कर जाती है
जिन्हें सोचकर अब
पूरी की पूरी रात
     नींद नहीं आती है।
 

End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रांजल धर की रचनाएँ