डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

बड़ा मजा आता
श्रीप्रसाद


रसगुल्लों की खेती होती,
बड़ा मजा आता।
चीनी सारी रेती होती,
बड़ा मजा आता।

बाग लगे चमचम के होते,
बड़ा मजा आता।
शरबत के सब बहते सोते,
बड़ा मजा आता।

चरागाह हलवे का होता,
बड़ा मजा आता।
हर पर्वत मेवे का होता।
बड़ा मजा आता।

लड्डू की सब खानें होतीं,
बड़ा मजा आता।
दुनिया बरफी पेड़े बोती,
बड़ा मजा आता।

मिलती रुपए किलो मिठाई,
बड़ा मजा आता।
रुपए होते पास अढ़ाई,
बड़ा मजा आता।

 


End Text   End Text    End Text