डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

मुर्गे की शादी
श्रीप्रसाद


ढम-ढम, ढम-ढम ढोल बजाता
कूद-कूदकर बंदर,
छम-छम घुँघरू बाँध नाचता
भालू मस्त कलंदर!

कुहू-कुहू-कू कोयल गाती
मीठा मीठा गाना,
मुर्गे की शादी में है बस
दिन भर मौज उड़ाना!

 


End Text   End Text    End Text