डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

शहरी बस
शादाब आलम


दिनभर दौड़ लगाया करती
है सड़कों पर शहरी बस।

सड़क किनारे लगी कतारें
बेसब्री से सभी निहारें।
शुरू हो गया धक्कम-धक्का
जैसे आकर ठहरी बस।

लोग ठसा-ठस भरे हुए हैं
कुछ बैठे कुछ खड़े हुए हैं।
गड्ढा आया, झूल उठें सब
ज्यों थोड़ी सी लहरी बस।

जितने मुँह उतनी हैं बातें
बातों में रस्ते कट जाते।
राय-मशवरे, वाद-विवादों
से बन पड़ी कचहरी बस।

आँधी-अंधड़, सर्द हवाएँ
इस पर रोब दिखा न पाएँ
लू की लपटें, भीषण गर्मी
सहती कड़ी दुपहरी बस।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शादाब आलम की रचनाएँ