डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अप्रतिहत
महेंद्र भटनागर


मैं नहीं  दुर्भाग्य के  सम्मुख झुकूँगा
आज जीवन में हुआ असफल भले ही !

एक पल भी साधना की भावना सोयी नहीं,
और  जाऊँ हार, ऐसी बात भी  कोई नहीं,
     मैं नहीं सुनसान राहों पर थकूँगा
     दूर, बेहद दूर हो मंजिल भले ही !

आज छाया है अमावस-सा अँधेरा सब तरफ,
पर, अभी कल मुस्कराएगा सबेरा सब तरफ,
     मैं न मन की पंगु दुविधा में रुकूँगा
     पास में चाहे न हो संबल भले ही !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महेंद्र भटनागर की रचनाएँ