डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

रात
बुद्धदेब दासगुप्ता

अनुवाद - नबारुणा भट्टाचार्य


नींद में लथपथ निखिल। उड़ चली निखिल की पत्नी खिड़की खोलकर
तारों के पास। तारों ने अचंभित होकर जानना चाहा - नाम क्या है?
निखिल की पत्नी बोली - तारा।
सुबह हुई। निखिल दौड़ा बाज़ार। दौड़ा दफ्तर। ट्यूशन। नाटक
के रिहर्सल और देर बाद खाना खाकर पड़ रहा बिस्तर पर।
आधी रात, हडबडाकर उसकी नींद टूटी। देखा, उसका सारा मुँह-गाल
भीग रहा है जल में। वक्ष पर न जाने कब उड़ती हुई तारा
आकर सो गई थी।
तारा की देह का नीर, निर्झर बन निखिल पर बरस रहा है
अविराम।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में बुद्धदेब दासगुप्ता की रचनाएँ