डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

टेलीफोन
बुद्धदेब दासगुप्ता

अनुवाद - कुणाल सिंह


फोन करते करते रविरंजन सो गया है
चेन्नई में टेलीफोन के चोंगे के भीतर
रवि की पत्नी पुकार रही है कोलकाता से - रवि रवि
सात बरस का बेटा और तीन बरस की बेटी
पुकारते हैं - रवि रवि
अँधेरे बादलों से होकर, नसों शिराओं से होकर
आती उस पुकार को सुनते सुनते
रवि पहुँच गया है अपने
पिछले जनम की पत्नी, बच्चों के नंबर पे
याद है? याद नहीं?
पिछले जनम के टेलीफोन नंबर से तैरती आती है आवाज
याद नहीं रवि? रवि?
मंगल ग्रह के उस पार से
सन्न सन्न करती उड़ती आती है
पिछले के भी पिछले जनम की पत्नी की आवाज।
रवि तुम्हें नहीं भूली आज भी
याद है मैंने ही तुम्हें सिखाया था पहली बार
चूमना। रवि याद नहीं तुम्हें?

टेलीफोन के तार के भीतर से
रिसीवर तक आ जाती है एक गौरैय्या
रवि के होठों के पास आकर सबको कहती है
याद है, याद है। रवि को सब याद है।
जरा होल्ड कीजिए प्लीज, रवि अभी दूसरे नंबर पर बातें कर रहा है
अपने एकदम पहले जनम के पत्नी बच्चों से
जिसने उसे सिखाया था कि कैसे किसी को प्यार करते हें
सात सात जन्मों तक।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में बुद्धदेब दासगुप्ता की रचनाएँ