डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

चिड़िया रानी
मनोज कुमार गुप्ता


चिड़िया रानी चिड़िया रानी
हम सबको हैं खूब सिखाती
सुबह-सुबह मेरे आँगन में
आकर हमको गीत सुनाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
फुदक-फुदक कर दाना खाती
तरह-तरह के रंगों वाली
हम सब के मन को बहलाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
मेहनत करना हमें सिखाती
तिनका-तिनका बीन-बीन कर
अपना घर खुद ही हैं, बनाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
कितनी सुंदर कितनी प्यारी
सुबह जागकर हमें जगाती
मिलजुल कर रहना सिखलाती।

चिड़िया रानी कितनी न्यारी
हम बच्चों को लगती प्यारी।
 


End Text   End Text    End Text