डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अश्रु मेरे माँगने जब
महादेवी वर्मा


अश्रु मेरे माँगने जब
नींद में वह पास आया !
स्वप्न सा हँस पास आया !

हो गया दिव की हँसी से
शून्य में सुरचाप अंकित;
रश्मि-रोमों में हुआ
निस्पंद तम भी सिहर पुलकित;

अनुसरण करता अमा का
चाँदनी का हास आया !

वेदना का अग्निकण जब
मोम से उर में गया बस,
मृत्यु-अंजलि में दिया भर
विश्व ने जीवन-सुधा-रस !

माँगने पतझार से
हिम-बिंदु तब मधुमास आया !

अमर सुरभित साँस देकर,
मिट गए कोमल कुसुम झर;
रविकरों में जल हुए फिर,
जलद में साकार सीकर;

अंक में तब नाश को
लेने अनंत विकास आया !

(सांध्य गीत से)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महादेवी वर्मा की रचनाएँ