डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

रोटी
मनीषा जैन


बसी रहती है
मेरी साँसों में
रोटी की ताजा महक
कोई मुझसे मेरी
रोटी छीन न ले
इसलिए आँचल में
छिपाकर रखती हूँ
और रात को
सिरहाने लगा लेती हूँ।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में मनीषा जैन की रचनाएँ