डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

बाजार
मनीषा जैन


चेचक के दानों सा
फैल रहा है
स्त्री के सारे शरीर पर
बाजार।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में मनीषा जैन की रचनाएँ