आइए पढ़ते हैं : अमृतलाल नागर की लंबी कहानी :: पाँचवाँ दस्ता