hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

आवाज
स्नेहमयी चौधरी


घर में कोई आवाज हो
कविता पंख फैलाकर पक्षी की तरह
खुले आकाश में मँडराने लगती है ।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ