hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

गीत-आघात
भवानीप्रसाद मिश्र


तोड़ रहे हैं
सुबह की ठंडी हवा को
फूट रही सूरज की किरनें

और
नन्हें-नन्हें
पंछियों के गीत

मजदूरों की
काम पर निकली टोलियों को
किरनों से भी ज्यादा सहारा
गीतों का है शायद

नहीं तो
कैसे निकलते वे
इतनी ठंडी हवा में !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ