hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

संगीत
भवानीप्रसाद मिश्र


अमरूद से
आम पर
जा रही है गिलहरी

आते-जाते
गा रही है गिलहरी

इस किचकिच को संगीत
हाँ कह सकते हैं

भाव है इसमें
भावना है भय है
चिंता है स्नेह है लय है !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ