hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

आलाप में गिरह
गीत चतुर्वेदी


जाने कितनी बार टूटी लय
जाने कितनी बार जोड़े सुर
हर आलाप में गिरह पड़ी है

कभी दौड़ पड़े तो थकान नहीं
और कभी बैठे-बैठे ही ढह गए
मुक़ाबले में इस तरह उतरे कि अगले को दया आ गई
और उसने ख़ुद को ख़ारिज कर लिया
थोड़ी-सी हँसी चुराई
सबने कहा छोड़ो भी

और हमने छोड़ दिया


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में गीत चतुर्वेदी की रचनाएँ



अनुवाद