hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

गठरी लोटा जीवन सारा
आभा बोधिसत्व


इस धरती पर

न कोई किसी से बड़ा है न छोटा है

हर मनुष्य केवल और केवल

साँस भरी गठरी है या

जल से भरा लोटा है।


End Text   End Text    End Text