डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

कहीं कोई मर रहा है उसके लिए
चंद्रकांत देवताले


झुक-झुक कर चूम रहे फूल जिसके होठों को
बतास में महक रही चंदन-गंध
जिसकी जगमगाती उपस्थिति भर से

जिसकी पदचापों की सुगबुगाहट ही से
झनझनाने लगे खामोश पड़े वाद्य
रोशन हो रहे दरख्तों-परिंदों के चेहरे

उसे पता तक नहीं
सपनों के मलबे में दबा
कहीं कोई मर रहा है
उसके लिए...

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में चंद्रकांत देवताले की रचनाएँ