डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

यादव जी!
दिविक रमेश


मोह तो त्यागना पड़ता है
पुरानी से पुरानी
पुस्तकों-पत्रिकाओं का भी
एक उम्र होने पर!

काश
पुस्तकें-पत्रिकाएँ भी
जायदाद हुई होतीं
हुई होतीं जेवरात ज़रूरी।
होतीं बैंक बैलेंस ही आकर्षक!
तो मशक्कत तो न करनी पड़ती इतनी
खोजने में इनके
उत्तराधिकारी
यादव जी!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में दिविक रमेश की रचनाएँ