डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मां
दिविक रमेश


रोज़ सुबह, मुँह-अंधेरे
दूध बिलोने से पहले
मां
चक्की पीसती,
और मैं
घुमेड़े में
आराम से
सोता।

-तारीफ़ों में बंधी
मां
जिसे मैंने कभी
सोते
नहीं देखा।

आज
जवान होने पर
एक प्रश्न घुमड़ आया है--
पिसती
चक्की थी
या मां?

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में दिविक रमेश की रचनाएँ