डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

हलफनामा
जसबीर चावला


सुने को
अनसुना किया
अनसुने को
सुन लिया
*
तुमने क्या कहा
क्या सुन लिया
क्या मैंने कहा
क्या सुन लिया
*
कुछ उधेड़ दिया
कुछ बुन दिया
उधेड़-बुन में
जीवन बीत गया

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में जसबीर चावला की रचनाएँ