डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

वसंत
त्रिलोचन


नव वसंत खिला जब भाग्य सा,
भुवन में तब जीवन आ गया,
गगन ने उस को अपनाव से,
अतुल गौरव से, अपना किया।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ