डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

पयोद और धरणी
त्रिलोचन


पयोदों की धारा गगन तल घेरे क्षितिज में
विलंबी होती है, धरणि उर का ताप तज के
बुलाती गाती है पल-पल, नए भाव उस के
बलाका माला से उठ कर उड़े और फहरे।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ