डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

स्वर
त्रिलोचन


स्वर व्यतीत कदापि नहीं हुए
समय-तार बजा कर जो जगे,
रँग गई धरती अनुराग से,
गगन में नवगुंजन छा गया।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ