डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सुख
कलावंती


तिनके सा सुख
और उम्रभर का विषाद
स्नेह बूँदों से खरीद डाला
मैंने अंतहीन अवसाद

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में कलावंती की रचनाएँ