डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

राका आई
त्रिलोचन


राका आई
शारदा उतर आई स्मिति की ज्योत्सना छाई

                 चंद्रमा व्योम में मुसकाया
                  सागर में इधर ज्वार आया
                  तारे हैं इधर, उधर पर्वत
                  आँखों ने जैसे वर पाया
                  चंचल समीर ने चल चल कर
                  कुछ नई भावना बरसाई।

                  चाँदनी खेलती है भू पर
                  तृण,तरु,सरि,सर,गृह-कलशों पर
                  यह रात अनोखी नई रात
                  जैसे दिख जाए सुंदर स्वर
                  प्राणों के भीतर नई लहर
                  लहरों में नई थिरक आई

                  उठता है दूर कहीं से स्वर
                  वह लहर पकड़ती है अंतर
                  चेतना हो गई सावधान
                  चलते चलते मैं गया ठहर
                  सन्नाटे में भी मंद लहर
                  कानों में बस कर लहराई

                  खिल रहे फूल, हँसते उपवन
                  जीवन ही जीवन भरा भुवन
                  इस समय भवन की मधुर कांति
                  कर रही गंधवह की चुंबन
                  क्या हुआ कि सत्ता चुपके से
                  आई, सुषमा अनुपद आई

                  अनिवार्य निरंतर आवाहन
                  सुनता रहता हूँ कुछ निःस्वन
                  द्यावापृथिवी के कण कण का
                  अग जग का प्रेरक संजीवन
                  ममता-बंधन यह वशीकरण
                  बंधन में मुक्ति सहज आई

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ