डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

उस जनपद का कवि हूँ
त्रिलोचन


उस जनपद का कवि हूँ जो भूखा दूखा है,
नंगा है, अनजान है, कला - नहीं जानता
कैसी होती है क्या है, वह नहीं मानता
कविता कुछ भी दे सकती है। कब सूखा है
उसके जीवन का सोता, इतिहास ही बता
सकता है। वह उदासीन बिलकुल अपने से,
अपने समाज से है; दुनिया को सपने से
अलग नहीं मानता, उसे कुछ भी नहीं पता
दुनिया कहाँ से कहाँ पहुँची; अब समाज में
वे विचार रह गए नही हैं जिन को ढोता
चला जा रहा है वह, अपने आँसू बोता
विफल मनोरथ होने पर अथवा अकाज में।
धरम कमाता है वह तुलसीकृत रामायण
सुन पढ़ कर, जपता है नारायण नारायण।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ