डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

बादल घिर आए
त्रिलोचन


बादल घिर आए

                  ताप गया पुरवा लहराई
                  दल के दल घन ले कर आई
                  जगी वनस्पतियाँ मुरझाई
                               जलधर तिर आए

                  बरखा, मेघ-मृदंग थाप पर
                  लहरों से देती है जी भर
                  रिमझिम-रिमझिम नृत्य-ताल पर
                               पवन अथिर आए

                 दादुर, मोर, पपीहे, बोले
                 धरती ने सोंधे स्वर खोले
                 मौन, समीर तरंगित हो ले
                               यह दिन फिर आए

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ