डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

प्रसन्न ताल
त्रिलोचन


शरत‍ का प्रसन्न ताल
जिस में लहरें भी नहीं भीतर मछलियाँ कुछ करती हैं
जब तब पानी के ऊपर आ जाती हैं।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ