डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

उषा आ रही है
त्रिलोचन


उषा आ रही है

             जगत जग चला है
             निशा धुल चली है
             घिरी दृष्टि तम से
             सहज खुल चली है
             नई जिंदगी पाश में बंधनों के
             नई चाल में आज अँगड़ा रही है

             विहग गा रहे हैं
             नखत खो चले हैं
             क्षितिज छोर प्राची
             अरुण हो चले हैं
             नए स्वप्न जो आँख में आ बसे है
             उन्हीं की प्रभा मौन लहरा रही है

             सभी को जगाती,
             हँसाती खिलाती,
             बुलाती, नए भाव
             से गुदगुदाती,
             हृदय में उषा और धड़कन बढ़ती
             घने कुहरे पर मंद मुसका रही है

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ