डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मैं तुम्हारा बन गया तो
त्रिलोचन


मैं तुम्हारा
बन गया तो
फिर न हारा

           आँख तक कर
           फिरी थक कर
           डाल का फल
           गिरा पक कर
           वर्ण दृग को
           स्पर्श कर को
           स्वाद मुख को
           हुआ प्यारा

            फूल फूला
            मैं न भूला
            गंध वर्णों
            का बगूला
            उठा करता
            गिरा करता
            फिरा करता
            नित्य न्यारा

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ