डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

फूल, तुम खिल कर झरोगे
त्रिलोचन


क्या करोगे
शून्य प्राणों
को भरोगे

पथ कहाँ, वन
जटिल तरु-घन,
हरा कंटक -
भरा निर्जन
खेद मन का
क्या हरोगे

हवा डोली
घास बोली
आज मैंने
गाँठ खोली
फूल, तुम खिल -
कर झरोगे

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ