डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मधुमालती
त्रिलोचन


झिझकती आँखों से
मैं ने तुम्हें परसा है
मधुमालती के फूल,
कहीं यह परस
तुम्हें खल न जाय

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ