hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक बच्चे का जन्म
विश्वनाथ प्रसाद तिवारी


अभी-अभी
माँ के गर्भ से
धरती पर आया है
ताजा-ताजा बच्चा
गुंधे हुए आटे के लोंदे-सा
नरम और लाचार
तवे पर रोटी-सा
सिंकने के लिए तैयार

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की रचनाएँ