डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

नए शहर में बरगद
केदारनाथ सिंह


जैसे मुझे जानता हो बरसों से
देखो, उस दढ़ियल बरगद को देखो
मुझे देखा
तो कैसे लपका चला आ रहा है
मेरी तरफ

पर अफसोस
कि चाय के लिए
मैं उसे घर नहीं ले जा सकता

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में केदारनाथ सिंह की रचनाएँ