डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

दूसरे शहर में
केदारनाथ सिंह


यही हुआ था पिछ्ली बार
यही होगा अगली बार भी
हम फिर मिलेंगे
किसी दूसरे शहर में
और ताकते रह जाएँगे
एक-दूसरे का मुँह

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में केदारनाथ सिंह की रचनाएँ