डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

झरबेर
केदारनाथ सिंह


प्रचंड धूप में
इतने दिनों बाद
(कितने दिनों बाद ?)
मैंने ट्रेन की खिड़की से देखे
कँटीली झाड़ियों पर
पीले-पीले फल

'झरबेर हैं' - मैंने अपनी स्मृति को कुरेदा
और कहीं गहरे
एक बहुत पुराने काँटे ने
फिर मुझे छेदा

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में केदारनाथ सिंह की रचनाएँ