डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

कुछ और टुकड़े
केदारनाथ सिंह


1.

अकेली चुप्पी
भयानक चीज है
जैसे हवा में गैंडे का
अकेला सींग

पर यदि दो लोग चुप हों
पास-पास बैठे हुए
तो उतनी देर
भाषा के गर्भ में
चुपचाप बनती रहती है
एक और भाषा।


2.

बरसों तक साथ-साथ
रहने के बाद
जब वे विधिवत अलग हुए
तो सारे फैसले में
यह छोटी-सी बात कहीं नहीं थी
कि जहाँ वे लौटकर जाना चाहते हैं
वह अपना अकेलापन
वे परस्पर गँवा चुके हैं
बरसों पहले।


3.

जन्म-मृत्यु सूचना के
उस नए दफ्तर में
पहले तय हुआ
जन्म का रजिस्टर अलग हो
मृत्यु का अलग
फिर पाया गया
यह अलगाव बिल्कुल बेमानी है।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में केदारनाथ सिंह की रचनाएँ