hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हिंसा
चंद्रेश्वर


अर्जुन की निगाह थी टिकी
मछली की आँख पर
था जिसे भेदना उसे
दिखाना था करतब
पुरुषार्थ का

चाहे जैसा भी हो
लक्ष्य-भेद
हिंसा तो होगी ही !

 


End Text   End Text    End Text