hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

रोशनी ढोता जिस्म
ज्ञानेंद्रपति


क्या है इन जुगनुओं का
रहस्य ? नहीं जानता
नहीं जानना चाहता
मुझे अच्छा लगता है कि कोई जिस्म
रोशनी ढोता हो और
अँधेरे में चिनगी बना घूमता हो ।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ज्ञानेंद्रपति की रचनाएँ