डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

उत्सव
अरुण कमल


देखो हत्यारों को मिलता राजपाट सम्मान
जिनके मुँह में कौर मांस का उनको मगही पान

प्राइवेट बंदूकों में अब है सरकारी गोली
गली-गली फगुआ गाती है हत्यारों की टोली
देखो घेरा बाँध खड़े हैं जमींदार की गुंडे
उनके कंधे हाथ धरे नेता बनिया मुँछ्मुंडे
गाँव-गाँव दौड़ाते घोड़े उड़ा रहे हैं धूर
नक्सल कह-कह काटे जाते संग्रामी मजदूर
दिन-दोपहर चलती है गोली रात कहीं पर धावा
धधक रहा है प्रांत समूचा ज्यों कुम्हार का आवा
हत्या हत्या केवल हत्या - हत्या का ही राज
अघा गए जो मांस चबाते फेंक रहे हैं गाज

प्रजातंत्र का महामहोत्सव छप्पन विध पकवान
जिनके मुँह में कौर मांस का उनको मगही पान।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अरुण कमल की रचनाएँ