hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

तीन घटनाएँ
मंगलेश डबराल


१.

आप हमारा क्या बिगाड़ सकते हैं उन्होंने पूछा
‘कुछ नहीं’
उन्होने कहा : तब आपसे बात करने से क्या फायदा !

२.

झूठ बोलने के क्या क्या फायदे हैं उन्होंने पूछा
‘कुछ नहीं’
उन्होने कहा : तब झूठ बोलकर क्या फायदा !

३.

उन्होंने इसे तोड़ दिया
उन्होंने उसे तोड़ दिया
उन्होंने सब कुछ तोड़ दिया
और कहा : अब सब टूट चुका है
‘आगे क्या होगा ?’
उन्होंने कहा : कुछ नया हो तो बताइए !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में मंगलेश डबराल की रचनाएँ