hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

चाहता है यह पागल प्यार
महादेवी वर्मा


चाहता है यह पागल प्यार,
अनोखा एक नया संसार !

कलियों के उच्छवास शून्य में तानें एक वितान,
तुहिन-कणों पर मृदु कंपन से सेज बिछा दें गान;

जहाँ सपने हों पहरेदार,
अनोखा एक नया संसार !

करते हों आलोक जहाँ बुझ बुझ कर कोमल प्राण,
जलने में विश्राम जहाँ मिटने में हों निर्वाण;

वेदना मधु मदिरा की धार,
अनोखा एक नया संसार!

मिल जावे उस पार क्षितिज के सीमा सीमाहीन,
गर्वीले नक्षत्र धरा पर लोटें होकर दीन !

उदधि हो नभ का शयनागार,
अनोखा एक नया संसार!

जीवन की अनुभूति तुला पर अरमानों से तोल,
यह अबोध मन मूक व्यथा से ले पागलपन मोल !

करें दृग आँसू का व्यापार,
अनोखा एक नया संसार!
  
(नीहार से)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महादेवी वर्मा की रचनाएँ