hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

क्यों इन तारों को उलझाते ?
महादेवी वर्मा


क्यों इन तारों को उलझाते ?
अनजाने ही प्राणों में क्यों
आ आ कर फिर जाते ?

पल में रागों को झंकृत कर,
फिर विराग का अस्फुट स्वर भर,
मेरी लघु जीवन-वीणा पर
क्या यह अस्फुट गाते ?

लय में मेरा चिरकरुणा-धन,
कंपन में सपनों का स्पंदन,
गीतों में भर चिर सुख चिर दुख
कण कण में बिखराते !

मेरे शैशव के मधु में घुल,
मेरे यौवन के मद में ढुल,
मेरे आँसू स्मित में हिलमिल
मेरे क्यों न कहाते ?

(रश्मि से)
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महादेवी वर्मा की रचनाएँ