hindisamay head


अ+ अ-

कविता

यह रात
मणि मोहन


कहीं नींद है
कहीं चीखें
कहीं दहशत

पर सबसे भयावह बात है
कि यह बिना स्वप्न की रात है...
 


End Text   End Text    End Text