डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

यायावर
लहब आसिफ अल-जुंडी

अनुवाद - किरण अग्रवाल


मैं इस ठंडी रात में उठ बैठा हूँ
तुम अब भी सो रहे हो
लेकिन पक्षी नहीं जानते
चुप रहना

कुछ पुकार रहा है मुझे
तुम्हारे गर्म शरीर से कुछ अधिक
कुछ अधिक नींद के स्पर्श से
थकी आँखों पर
बहुत बार मैं बुलाया गया हूँ
या वापस भेज दिया गया हूँ
आँखें खोलने के लिए
अपने आवरणों के नीचे से शरीर को हिलाने के लिए
और वार्तालाप करने के लिए
रात्रि की आत्मा के साथ

मैं प्रायः चकित होता हूँ तुम कहाँ हो
जब मैं जागकर विचरता हूँ
इस जगह में जिसे हम घर कहते हैं

 


End Text   End Text    End Text